वार्षिक विश्व सतनामी सम्मेलन 29 दिसंबर 2018 से 1 जनवरी 2019 तक

हर वर्ष कि तरह इस वर्ष भी वार्षिक विश्व सतनामी सम्मेलन 29 दिसंबर 2018 से 1 जनवरी 2019 तक चिड़ी (रोहतक ) सतनामी चोकी में होना तय हुवा है |सभी  साध सांगत का बुलावा है ||
Read More

सतनामी पंथ के नियम

सतनामी पंथ के नियम सत्तनामी पंथ के नियम! १- ग्यान को प्राप्त करना निर्वान ग्यान रोज पढना सुनना समझना व भेदी होना है!भेदी होने से आत्मा को सुख प्राप्त होता है!मन का अँधेरा दूर होता है!और आत्मवल मे मजबूती आती है ! भय भर्म दूर हो जाते है!सुख शान्ति का मार्ग दिखता है! साध बनते है!अनेक दुख बुराईयों से हम सब मनुष्य बनते है!बुध्दिमानी आती है! एेसे ही अनेक लाभ प्राप्त होते...
Read More

सुंदरता का मूल्य।

सुंदरता का मूल्य। =========== एक अती सुन्दर महिला ने विमान में प्रवेश किया और अपनी सीट की तलाश में नजरें घुमाईं। उसने देखा कि उसकी सीट एक ऐसे व्यक्ति के बगल में है। जिसके दोनों ही हाथ नहीं है। महिला को उस अपाहिज व्यक्ति के पास बैठने में झिझक हुई। उस 'सुंदर' महिला ने एयरहोस्टेस से बोला "मै इस सीट पर सुविधापूर्वक यात्रा नहीं कर पाऊँगी। क्योंकि साथ की सीट पर जो व्यक्ति बैठा हुआ...
Read More

भीतर के “मैं” का मिटना जरूरी है।

भीतर के "मैं" का मिटना जरूरी है। सुकरात समुन्द्र तट पर टहल रहे थे। उनकी नजर तट पर खड़े एक रोते बच्चे पर पड़ी। वो उसके पास गए और प्यार से बच्चे के सिर पर हाथ फेरकर पूछा - "तुम क्यों रो रहे हो ?" लड़के ने कहा - "ये जो मेरे हाथ में प्याला है मैं उसमें इस समुन्द्र को भरना चाहता हूँ। पर यह मेरे प्याले में समाता ही नहीं।" बच्चे की बात सुनकर सुकरात विस्माद में चले गये और स्वयं रोने...
Read More

ये है मनुष्य कि औकात फिर घमंड कैसा

ये है हमारी औकात फिर घमंड कैसा एक माचिस की तिल्ली, एक घी का लोटा, लकड़ियों के ढेर पे, कुछ घण्टे में राख..... बस इतनी-सी है *आदमी की औकात !!!!* एक बूढ़ा बाप शाम को मर गया , अपनी सारी ज़िन्दगी , परिवार के नाम कर गया, कहीं रोने की सुगबुगाहट , तो कहीं फुसफुसाहट .... अरे जल्दी ले जाओ कौन रखेगा सारी रात... बस इतनी-सी है *आदमी की औकात!!!!* मरने के बाद नीचे देखा , न...
Read More